जय माता दी  (Jai MATA DI)

“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

मैया तुने मेरा, कैसा इन्साफ किया, छोटा सा गुनाह मेरा, अब तक ना माफ़ किया.. (Bhete/Bhajan भेंट)

2019-10-02 14:21:41
मैया तुने मेरा, कैसा इन्साफ किया,छोटा सा गुनाह मेरा, अब तक ना माफ़ किया..थोड़ी सी नादानी, सब करते है मातासमझा देती तू अगर , तेरा क्या बिगड़ जाता..माँ मेरी गलती पर , इतना क्यों ध्यान दिया..मैया तुने मे...
read more

।। शिव मानस पूजा स्तुति।। (Shiv Manas Puja Stuti)

2019-10-02 14:18:50
मैंने नवीन स्वर्णपात्र, जिसमें विविध प्रकार के रत्न जड़ित हैं, में खीर, दूध और दही सहित पांच प्रकार के स्वाद वाले व्यंजनों के संग कदलीफल, शर्बत, शाक, कपूर से सुवासित और स्वच्छ किया हुआ मृदु जल एवं ताम्...
read more

Mahakali Stotra (महाकाली स्तोत्र)

2019-10-02 14:15:16
जय शक्ति जय जय महाकाली..जय शक्ति जय जय महाकाली..आदि गणेश मनाऊ दाती ... चरण सीस निवाऊ दातीतेरे ही गुण गाऊ दाती.. तू है कष्ट मिटावंन वालीजय शक्ति जय जय महाकाली.. जय शक्ति जय जय महाकाली..खंडा दाये हाथ बि...
read more

शनिदेव के प्रसिद्ध मंदिर (Famous temple of Shanidev)

2019-09-30 16:38:26
शनि मंदिर (कोसीकलां दिल्ली से 128 किमी की दूरी पर कोसीकलां नाम की जगह पर सूर्यपुत्र भगवान शनिदेव का मंदिर है। यह उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में आता है, इसके आसपास ही नंदगांव, बरसाना और श्री बां...
read more

इन कारणों से मंदिर जाना स्वास्थ्य के लिए होता है अच्छा

2019-09-27 10:00:14
आमतौर पर मंदिर में जाना धर्मिक से जोड़ा जाता है। लेकिन मंदिर जाने के कुछ साइंटिफिक हेल्थ बेनिफिट्स भी हैं। अगर हम रोज मंदिर जाते हैं तो इससे कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स कंट्रोल की जा सकती हैं। यहां जान...
read more

यहाँ पर वराह और नृसिंह अवतार का सयुंक्त रूप विराजित है माँ लक्ष्मी के साथ

2019-09-27 09:56:05
आंध्रपदेश के विशाखापट्टनम से महज 16 किमी दूर सिंहाचल पर्वत पर स्थित है सिंहाचलम मंदिर। इस मंदिर भगवान नृसिंह का घर कहा जाता है। इस मंदिर की विशेषता यह है की यहाँ पर यहाँ पर भगवान् विष्णु के वराह और नृ...
read more

उत्तरप्रदेश के कानपुर में शिवला स्थित ऐतिहासिक तपेश्वरी मंदिर

2019-04-27 18:55:06
  क्या है मंदिर का इतिहास : बिरहाना रोड पटकापुर स्थित मां तपेश्वरी देवी का मंदिर रामायणकाल से जुड़ा है। मान्यता है कि इस मंदिर में माता सीता ने आकर तप किया था और लवकुश मुंडन और कनछेदन का श...
read more

Search