जय माता दी  (Jai MATA DI)

“ सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
 

हनुमान जी श्राप मुक्त हुये

2020-01-19 12:56:18
हरे राम हो हरे राम हो, -:- हनुमान जी श्राप मुक्त हुये -:-और सम्पाती गीध कहने लगा- जो बुद्धिनिधान सौ योजन यानि चार सौ कोस समुद्र लाँघ सकेगा, वही श्रीराम जी का कार्य कर सकेगा। इस प्रकार कहकर गीध सम्पाती...
read more

श्रीराम द्वारा बालि वध

2020-01-19 12:55:19
हरे राम हो हरे राम हो, -:-श्रीराम द्वारा बालि वध-:-काकभुशुण्डि जी कहते हैं कि- हे पक्षियों के राजा गरुड़! नट यानि मदारी जैसे बंदर को नचाता है उसी तरह प्रभु श्रीराम जी सबको नचाते हैं, वेद ऐसा कहते हैं।...
read more

जिस भूमि मेँ जैसे कर्म किए जाते हैँ ,वैसे ही संस्कार वह भूमि भी प्राप्त कर लेती है । इसलिए गृहस्थ को अपना घर सदैव पवित्र रखना चाहिए ।

2020-01-19 12:54:08
  जिस भूमि मेँ जैसे कर्म किए जाते हैँ ,वैसे ही संस्कार वह भूमि भी प्राप्त कर लेती है । इसलिए गृहस्थ को अपना घर सदैव पवित्र रखना चाहिए । मार्कण्डेय पुराण मेँ एक कथा आती है >कि राम लक्ष्मण वन म...
read more

आखिर हनुमानजी सिंदूर क्यों पसंद करते हैं।

2020-01-19 12:51:26
  हनुमान जी के जीवन के ऐसे कई रोचक प्रसंग हैं, जिनसे जीवन में प्रेरणा मिलती है। आज इस लेख में हम जानते हैं ऐसी ही कुछ रोचक बातों के बारे में कि आखिर हनुमानजी सिंदूर क्यों पसंद करते हैं। हनुमान ...
read more

तपस्या में बैठे भगवान शिव के पसीने से नर्मदा प्रकट हुई।

2020-01-19 12:50:02
#जय_हो_मांँ_नर्मदे=============* जन्म कथा 1 : कहते हैं तपस्या में बैठे भगवान शिव के पसीने से नर्मदा प्रकट हुई। नर्मदा ने प्रकट होते ही अपने अलौकिक सौंदर्य से ऐसी चमत्कारी लीलाएं प्रस्तुत की कि खुद शिव...
read more

कथा प्रसंग तीनों देव वैद्य

2020-01-19 12:48:49
  एक ही तत्त्व उत्पत्ति, स्थिति और संहार के लिए ब्रह्मा, विष्णु और शिव - इन तीन रूपों में आया है । इस दृष्टि से ब्रह्मा को जब आयुर्वेद का आविर्भावक माना जाता है, तो रुद्र और विष्णु को भी आयुर्वे...
read more

क्षमादान से बडा कोई यज्ञ नहीं...

2020-01-19 12:47:15
  क्षमादान से बडा कोई यज्ञ नहीं...क्षमः यशः क्षमा दानं क्षमः यज्ञः क्षमः दमः ।क्षमा हिंसा: क्षमा धर्मः क्षमा चेन्द्रियविग्रहः ॥ अर्थात् :-क्षमा ही यश है क्षमा ही यज्ञ और मनोनिग्रह है ,अहिंसा धर...
read more

« Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 Next »

Search